बुधवार, 21 जुलाई 2010

छिपकली और चूहे



एक न छिपकली थी , उसके बहुत सारे फ़्रैण्डस थे ।
पता है उसके फ़्रैण्ड्स कौन थे ?
कौन थे ...?
चूहे...... 
चूहे छिपकली के फ़्रैण्डस थे ...?
हां , और वो सब मिलकर रहते थे । उनके घर के पास न एक स्नेक भी रहता था ।
उन्हें डर नहीं लगता था स्नेक से ।
लगता था , स्नेक हर रोज चूहों को मारता था । वो जब भी स्नेक को देखते घर से  भाग जाते , पर स्नेक उनके बच्चों को पकड के खा जाता । 
चूहे बहुत दुखी रहते थे , पर क्या करते ?
उनकी जो फ़्रैण्ड थी न छिपकली 
हां ....
एक दिन उसे बहुत गुस्सा आया । और जब स्नेक उनके घर में आया न तो वह जानबूझ कर स्नेक के सामने आ गई और स्नेक नें उसे चूहा समझ कर पकड लिया और खाने लगा । जैसे ही उसे मुंह के पास ले गया छिपकली नें जोर से स्नेक की आंख में मारा । अब तो वह देख भी नहीं सकता था और इधर उधर घूमने लगा । सारे चूहे और छिपकली उसे कभी इधर से छेड्ते और कभी उधर से छेडते , पर वो किसी को भी पकड नहीं सकता था ।
फ़िर क्या हुआ ?
फ़िर स्नेक रोने लगा और उसनें चूहों से माफ़ी भी मांगी और चूहों नें उसको जाने दिया । 

सोमवार, 12 जुलाई 2010

क्लाऊड्स की टक्कर और वर्षा

एक बार मम्मी किचन में खाना बना रही थी और पता है क्या हुआ ?
क्या हुआ ......?
मम्मी नें प्रेशर कुक्कर खोला तो उसमें से क्लाऊडस निकलने लगे ।
फ़िर...........?
फ़िर पता है वो क्लाऊड्स ऊपर फ़्लाई कर गए । फ़्लाई करते-करते वो बहुत ऊपर चले गए ।
फ़िर क्या हुआ.......?
फ़िर ऊपर एक और क्लाऊड फ़्लाई कर रहा था और दोनों की जोर से टक्कर हो गई ।
क्यों दोनों की टक्कर कैसे हुई ?
जैसे दो गाडियों की नहीं हो जाती कई बार , जब आमने-सामने आ जाती हैं तो ।
हां......
वैसे ही दोनों क्लाऊड्स आमने-सामने आ गए और दोनों की टक्कर हो गई ।
फ़िर..........?
फ़िर दोनों को चोट लग गई और नोई-नोई (रोने ) करने लगे ।
फ़िर...........?
फ़िर रेन (वर्षा ) हो गई ।

गुरुवार, 1 जुलाई 2010

नट्खट कान्हा - 2

 हैलो फ़्रैण्ड्स


मैने पहले आपको कान्हा की एक कहानी सुनाई न । आज कनुआ की एक और कहानी सुनाऊंगा ।



२. नॊटी ब्वाय

कनुआ बहुत ही नाटी ब्वाय था । वह अपनी मम्मी को बहुत परेशान करता था । मम्मी बोलती खाना खा लो तो वह नहीं खाता , न्हाई-न्हाई करलो , तो भी नहीं करता था ।

फ़िर क्या करता था ?

वो बाहर हागी-भागी कर जाता था ।

तो फ़िर...............?

फ़िर वो बच्चों के साथ खेली-खेली करता था और जब भूख लगती तो अपने सारे फ़्रैण्ड्स के साथ चोरी से किसी के घर में घुस जाता ।

हां , तो फ़िर क्या करता ?

फ़िर वो चुपके से उनका दुधु पी जाता , कर्ड खा जाता , बटर खा जाता और नीचे भी गिरा देता था ।

किसी की चिज्जी खाना तो गन्दी बात होती है न ?

हां किसी की चिज्जी कभी नहीं खानी चाहिए , और नीचे भी नहीं गिरानी चाहिए ।

फ़िर कनुआ क्यों गिराता था ?

वो नाटी ब्वाय था न , इसीलिए ।

फ़िर पता है उसकी मम्मी को लोगों नें बताया ।

क्या बताया ?

यही कि कनुआ चोरी से माखन खाता है , दुधु पीता है , दही खाता है और सारा नीचे भी गिरा देता है ।

फ़िर उसकी मम्मी ने क्या किया ?

उसकी मम्मी ने उसको डार्क रूम में बंद कर दिया , उसको कुछ भी नहीं दिख सकता था और वो डरने लगा , नोई-नोई (रोना ) भी करने लगा ।

तो फ़िर उसकी मम्मी नें उसको बाहर नहीं निकाला ?

नहीं जब कनुआ नें मम्मी को सोरी बोला तो मम्मी नें उसको बाहर निकाल दिया और वो फ़िर से खेली खेली करने लगा ।
टेम्प्लेट परिकल्पना एवँ अनुकूलन :डा.अमर कुमार 2009