शनिवार, 11 सितंबर 2010

गणेश जी की दुनिया

नमस्कार दोसतो ,
आज गणेश चतुर्थी है न तो मुझे मम्मी नें गणेश जी की एक बहुत अच्छी कहानी सुनाई । मैं आपको भी सुनाऊं ----

गणेश जी की दुनिया 

एक बार गणेश जी अपने बडे भाई कार्तिकेय के साथ खेली-खेली कर रहे थे , तो दोनों भाई फ़ाईट करने लगे ।
फ़ाईट.....पर क्यों ?
क्योंकि गणेश जी के बडे भाई कह्ते थे मैं स्ट्रांग ब्वाय हूं और गणेश जी कहते मैं हूं ।
फ़िर ....
फ़िर दोनों नें एक फ़ैसला किया ।
कैसा फ़ैसला ?
यही कि जो पूरी दुनिया घूम कर सबसे पहले वापिस आएगा , वही स्ट्रांग होगा ।
तो क्या हुआ ?
 तो कार्तिकेय जी तो तेज-तेज भागी-भागी करने लगे और गणेश जी तो भागे ही नहीं ।
फ़िर तो गणेश जी हार गए होंगे ?
नहीं , गणॆश जी नें पता है क्या किया ?
क्या किया ?
उन्होंनें अपने मम्मी-पापा के गिर्द एक चक्कर लगाया और मम्मी की गोदि में बैठकर लड्डु खाने लगे ।
तो कार्तिकेय का क्या हुआ ?
वो तो भागी-भागी करते-करते थक गया और जब वापिस आया तो गणेश जी को मम्मी की गोदि में आराम से बैठा देखकर बोला-
अरे , तुम तो लेज़ी ब्वाय हो , देखो मैं पूरी दुनिया घूम कर आ गया और तुम वहीं बैठे हो , इसलिए मैं स्ट्रांग ब्वाय हूं ।"
तो गणेश जी नें पता है क्या कहा ---
क्या कहा...?
मैं स्ट्रांग ब्वाय हूं , क्योंकि मैं तुमसे पहले ही चक्कर लगा आया हूं ।
पर कैसे ?
मैनें मम्मी पापा के गिर्द घूम लिया और वही मेरी पूरी दुनिया हैं । मम्मी-पापा से बढकर तो कुछ भी नहीं ।"
फ़िर .....?
फ़िर गणेश जी की बात सुनकर कार्तिकेय नें अपनी हार मान ली ।

हैपी गणेशोत्सव टू आल आफ़ यू ।

6 टिप्‍पणियां:

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

वाह शुभम बाबा, बढि़या स्‍टोरी.

ईद व गणेश चतुर्थी एवं पर्यूषण पर्व की हार्दिक शुभकामनांए.

शुभम जैन ने कहा…

happy ganesh utsav to u too bachche...

bahut sundar kahani sunai...

Chinmayee ने कहा…

bahut sundar story

रानीविशाल ने कहा…

बहुत अच्छी स्टोरी है मुझे भी बहुत पसंद है .....मैंने भी गणपति बाप्पा को लड्डू खिलाए :)
अनुष्का

माधव ने कहा…

सुन्दर

Akshita (Pakhi) ने कहा…

गणेश जी तो मुझे बहुत प्रिय हैं...सुन्दर रचना.

टेम्प्लेट परिकल्पना एवँ अनुकूलन :डा.अमर कुमार 2009