सोमवार, 12 जुलाई 2010

क्लाऊड्स की टक्कर और वर्षा

एक बार मम्मी किचन में खाना बना रही थी और पता है क्या हुआ ?
क्या हुआ ......?
मम्मी नें प्रेशर कुक्कर खोला तो उसमें से क्लाऊडस निकलने लगे ।
फ़िर...........?
फ़िर पता है वो क्लाऊड्स ऊपर फ़्लाई कर गए । फ़्लाई करते-करते वो बहुत ऊपर चले गए ।
फ़िर क्या हुआ.......?
फ़िर ऊपर एक और क्लाऊड फ़्लाई कर रहा था और दोनों की जोर से टक्कर हो गई ।
क्यों दोनों की टक्कर कैसे हुई ?
जैसे दो गाडियों की नहीं हो जाती कई बार , जब आमने-सामने आ जाती हैं तो ।
हां......
वैसे ही दोनों क्लाऊड्स आमने-सामने आ गए और दोनों की टक्कर हो गई ।
फ़िर..........?
फ़िर दोनों को चोट लग गई और नोई-नोई (रोने ) करने लगे ।
फ़िर...........?
फ़िर रेन (वर्षा ) हो गई ।

8 टिप्‍पणियां:

संगीता पुरी ने कहा…

फिर बारिश में कौन भींगा ??

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत ही सुन्दर पोस्ट!
--
इसकी चर्चा यहाँ भी की गई है-
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/07/blog-post.html

बाल-दुनिया ने कहा…

Ha..ha..ha...Interesting !!


_________________________
अब ''बाल-दुनिया'' पर भी बच्चों की बातें, बच्चों के बनाये चित्र और रचनाएँ, उनके ब्लॉगों की बातें , बाल-मन को सहेजती बड़ों की रचनाएँ और भी बहुत कुछ....आपकी भी रचनाओं का स्वागत है.

माधव ने कहा…

nice

Akshita (Pakhi) ने कहा…

बादलो की टक्कर, फिर तो बारिश होनी ही थी..मजेदार.

_____________________
'पाखी की दुनिया' के एक साल पूरे

लविज़ा | Laviza ने कहा…

वाह बातों बातों में बारिश का राज बता दिया :)

Chinmayee ने कहा…

हेल्लो शुभम तो तुम भी मेरी ही तरह सोच ते हो ... बहोत अच लगा तुम्हारा ब्लॉग पढकर!

__________
New Post: fathers day card and Cow boy

Udan Tashtari ने कहा…

वेरी गुड...फिर शुभम भीगा??

टेम्प्लेट परिकल्पना एवँ अनुकूलन :डा.अमर कुमार 2009