सोमवार, 19 अप्रैल 2010

. सांप मछली और मगरमच्छ

एक ना सांप था । वो पता है क्या करता था ?

क्या करता था ?

वह बहुत सारे एनीमल्स को खा जाता था । फ़िर पता है क्या हुआ ?

क्या हुआ ?

एक मछली आई , उसने सारे एनीमल्स को अपने घर में गुम कर दिया ।

उसने कैसे गुम कर दिया ?

डार्क रूम में बंद करके । फ़िर वो किसी को नहीं दिख सकते थे न ।
हां , फ़िर सांप को तो नहीं पता चला होगा ?

सांप वहां भी आ गया और फ़िर से एनीमल्स को खाने लगा ।

फ़िर मछली नोई-नोई करने लगी (रोने लगी ) ।

फ़िर क्या हुआ ?




फ़िर उसके पास एक मगरमच्छ आया ।
उसने पता है क्या किया ?

क्या किया ?

उसने सांप को घर से भगा दिया और डोर बंद कर दिया ।

अब सांप एनीमल्स को नहीं खा सकता था ।

और वो सारे खेली-खेली करने लगे ।

6 टिप्‍पणियां:

Amitraghat ने कहा…

बढ़िया लगी कहानी...ऐसे प्रश्न पूछ्ने से कहानी में मज़ेदार मोड़ आते हैं ...और बड़े होकर स्क्रिप्ट् राईटर भी बन सकते हैं.."

माधव ने कहा…

मगर मच्छ तो साँप से भी खतरनाक होता है , पर आपका मगर मच्छ तो भला प्राणी है

शुभम सचदेव ने कहा…

अरे वाह माधव तुम्हें तो सारी बातें पता हैं , वो मगरमच्छ ना मछली का फ़्रैण्ड था , इसलिए उसने मछली की हैल्प की । दोनों पानी में रहते हैं ना इसीलिए , हां........

अक्षिता (पाखी) ने कहा…

अले कित्ती मजेदार कहानी..है न.
____________________
'पाखी की दुनिया' में इस बार माउन्ट हैरियट की सैर पर.

माधव ने कहा…

टिप्पड़ी के लिए धन्यवाद

shubham sachdeva ने कहा…

Thank u paakhi

टेम्प्लेट परिकल्पना एवँ अनुकूलन :डा.अमर कुमार 2009